Posts tagged ‘Maa’

माँ

आकाश के सद्रश
पकड़ने चला माँ के आँचल को..
सोचा बटोर लू ममत्व के सब ताने बाने ..
और बसा लू दुनिया माँ के आँचल में ..

खीछु पल्लू का वह कोना ..
जिसे पकड़ में बड़ा हुआ ..
वह दुन्धाला सा बचपन जब माँ ही सच थी..
जिससे सीखी हर लकीर पत्थर की..

उनकी उस साडी से आखर जोडू
जिससे लिपट में इठलाता था..
कभी सामने आता कभी छुप जाता था.
बंद आँखों से भी
माँ को ही सामने पाता ..

जब कभी माँ का ना होना
बैचेन कर देता था..
हर घडी हर पल
माँ का होना अच्छा लगता था..

पल दो पल को भी न
ओझल होने दू …
लिपट कर माँ के गले ..
सारी दुनिया को खो दू…

इन अनगिनत बातो का
कैसे पाऊ कोई कोना
मुश्किल नही ….. असंभव
अपार प्यार का
व्यक्त शब्दों में होना …

– अमित

May 9, 2010 at 1:30 pm 2 comments

Aaine Ke Sau Tukade Kar Ke..

Aaine Ke Sau Tukade Kar Ke ham ne dekhe hai ..

aaine ke sau tukade kar ke ham ne dekhe hai
ek me bhee tanha the, sau me bhee akele hai

jo bana ek sathee, woh bhee ham se chhuta hai
bewafa nahee jab woh, fir kyo ham se ruthha hai
khoyee khoyee aakhon me, aasuon ke mele hai

usaka hal kya hoga, yahee gam satata hai
nind bhee nahee aatee, dard badhata jata hai
jindagee kee raaho me, log hamse khele hai

har taraf ujala hai, dil me ek andhera hai
samane kab aayega, kyo chhupa savera hai
meraa dil jigar dekho, kitane dard jele hai..

December 10, 2009 at 2:37 pm 2 comments


Blog Stats

  • 3,527 hits

Calendar

June 2017
M T W T F S S
« May    
 1234
567891011
12131415161718
19202122232425
2627282930  

Follow me on twitter

Enter your email address to subscribe to this blog and receive notifications of new posts by email.

Join 2 other followers

Flickr Photos

More Photos